अल्पसंख्यकों के लिए विकासवाद जरुरी परिवारवाद नहीं: इरशाद अली आजाद

बिहार में अब सिर्फ विकासवाद की बात होगी परिवारवाद की नहीं,पूरा अल्पसंख्यक समुदाय बिहार विधानसभा चुनाव में एकजुट होकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उनकी पार्टी जदयू के साथ खड़ी रहेगी क्योंकि जो काम उन्होंने 15 साल के अपने शासनकाल में मुसलमानों के लिए किया है उसे लालू यादव या राष्ट्रीय जनता दल की सरकार कभी नहीं कर पाई और मुसलमानों को केवल वोट बैंक बनाकर रखा लेकिन मुसलमान अब समझ चुके हैं कि बिहार में अल्पसंख्यकों की बात करने वाला और उन्हें समाज की मुख्य धारा में रखने वाला केवल जदयू हो है। यह कहना है बिहार राज्य शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन इरशाद अली आजाद का जो पटना जदयू अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ पटना महानगर द्वारा आयोजित एकदिवसीय कार्यक्रम में बोल रहे थे।

अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि लालू यादव ने अपने शासनकाल में 100 से ज्यादा चरवाहा विद्यालय खुलवाए लेकिन अल्पसंख्यकों के लिए एक भी स्कूल नहीं खुलवाया। नीतीश सरकार की अल्पसंख्यक कल्याण के लिए लागू योजनाओं की सूची बेहद लंबी है जिसमें सबसे हालिया उपलब्धि राजधानी पटना समेत अन्य शहरों के लगभग 350 करोड़ की वक्फ बोर्ड की जमीन पर उनका मालिकाना हक दिलाना भी शामिल है। उन्होंने कहा कि अब बिहार में राजनीतिक ड्रामा करने वालों के लिए कोई जगह नहीं है क्योंकि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी के नेतृत्व में सबको काम करने का अवसर मिला है और बड़े स्तर पर बिहार राज्य शिया वक्फ बोर्ड के जरिए भी हजारों गरीब अल्पसंख्यक परिवार का कल्याण हुआ है।

इस मौके पर विधान परिषद सदस्य और अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष तनवीर अख्तर ने कहा कि 2005 से माननीय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पूरी ईमानदारी से सभी को साथ लेकर चलने का प्रयास किया है। अल्पसंख्यकों के शिक्षा समेत मदरसा पर जो ध्यान नीतीश सरकार ने दिया वो अब तक किसी भी सरकार ने नहीं किया था। बिहार राज्य अल्पसंख्यक आवासीय विद्यालय योजना,बिहार राज्य मदरसा सुदृढ़ीकरण योजना,बिहार राज्य वक्फ विकास योजना के अलावा मुख्यमंत्री अल्पसंख्यक कल्याण छात्रावास अनुदान योजना या मुख्यमंत्री अल्पसंख्यक कल्याणछात्रावास खाद्यान योजना के अलावा शैक्षणिक प्रोत्साहन योजनाओं एवं मुस्लिम महिला तलाकशुदा/परित्यक्ता सहायता योजना,मुख्यमंत्री अल्पसंख्यक रोजगार ऋण योजना जैसी योजनाएं अल्पसंख्यक समुदाय के लिए मददगार साबित हुई है।

इस अवसर पर पटना महानगर अध्यक्ष ( अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ) शकील हासमी ने कहा कि भाजपा का खौफ दिखा कर अब मुसलमानों को अब डराया नही जा सकता ,क्योंकि भाजपा के साथ रहकर माननीय मुख्यमंत्रीनीतीश कुमार ने अल्पसंख्यकों के लिए जो काम किया है उसे बिहार का मुस्लमान अच्छी तरह से देख रहा है और समझ चुका है इसलिए एमवाई का झूठा नारा देकर अब मुसलमानों को ठगने की कोशिश नाकाम रही है। कार्यक्रम के दौरान ही पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह के असामयिक निधन की खबर सुनते ही उपस्थित लोगों ने उन्हें मौन रखकर श्रद्धांजलि अर्पित की। इस मौके पर महानगर टीम की ओर से अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष तनवीर अख्तर को जदयू अल्पसंख्यक जागरूकता पुरस्कार और बिहार राज्य वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष इरशाद अली आजाद को अल्पसंख्यक कल्याण पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया।